_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"hindi.khoobsurati.com","urls":{"Home":"http://hindi.khoobsurati.com","Category":"","Archive":"http://hindi.khoobsurati.com/2017/04/","Post":"http://hindi.khoobsurati.com/these-healthy-snacks-kids-will-surely-adore/","Attachment":"http://hindi.khoobsurati.com/these-beautiful-indian-locations-to-enjoy-the-cool-weather-during-summers/11111-3/","Nav_menu_item":"http://hindi.khoobsurati.com/25909/","Acf":"http://hindi.khoobsurati.com/?acf=acf_url"}}_ap_ufee

एलोवेरा के भी है कई चमत्कारी गुण

एलोवेरा एक औषधी के रूप में जानी जाती है।इसका उपयोग हम प्रचीन काल से ही करते आ रहे है।क्योकि यह एक संजीवनी बूटी की तरह कई रोगों के इलाज के लिये उपयोग में लाई जाती है। दिखने में हरा और किनारे की ओर कांटेदार आकृति लिये हुये यह एलोवेरा संजीवनी के नाम से भी जाना जाता है।इसके कई नाम है जैसे-ग्वारपाठा,धृतकुमारी और बहुत से फायदों की बजह से इसे चमत्कारी पौधा भी कहते

TropfenImage Source: http://www.naturheilpraxis-lauf.de/

एलोवेरा के पोषण का महत्व
एक औषिधि के रूप में उपयोग में लाये जाने वाला यह एलोवेरा कई पोष्टिक तत्वों से भरा पड़ा है इनमें 12 विटामिन, 18 अमीनो एसिड, 20 खनिज, 75 पोषक तत्वों और 200 सक्रिय एंजाइमों शामिल हैं। इसके अलावा कई रासायनिक गुण खनिज कैल्शियम, जस्ता, तांबा, पोटेशियम, लोहा, सोडियम, मैग्नीशियम, क्रोमियम और मैंगनीज प्राचूर मात्रा में पाया जाता है और इसमे विटामिन के गुण भी भरपूर मात्रा में पाया जाता है। विटामिन ई, विटामिन सी, विटामिन बी 12, बी -6, बी 2, बी 1, विटामिन ए, बी 1, बी 2, बी 6 और बी 12, भी नियासिन और फोलिक एसिड शामिल हैं। ये प्राकृतिक रूप से पाया जाने वाला पोषण घटक सबसे शक्तिशाली हर्बल पौधों में से एक में माना जाता है।इसके उपचार से हमें कई साकारात्मक परिणाम प्राप्त हुये है।

एलोवेरा के पोषण का महत्वImage Source: http://srirajivdixit.com/

शारीरीक उपचार हेतु एलोवेरा के फायदे

एडॉप्टोजेन- एडॉप्टोजेन मानव शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मज़बूत करने और वातावरण में होने वाले बदलावों के प्रभाव को तेजी से शरीर ढालता है। इसके अलावा आज की  भागदौड़ भरी जिंदगी में बदलता हुआ हमारा खान-पान असर सीधे हेल्थ पर पड़ता है। एलोवेरा में पाए जाने वाले  पॉलिसैचेराइड्स, वायरस से लड़कर कई प्रकार की बीमारियों से शरीर को सुरक्षित रखते हैं।  एलोवेरा का जूस आपके शरीर को तनाव से लड़ने की क्षमता बढ़ाता है इसके अलावा बीमारी से बचाने में सहायक तो होता ही है इसके अलावा मांनसिक शांति भी प्रदान करता है।

एडॉप्टोजेनImage Source: http://vineveracosmetics.com/

पाचन क्रिया में सहायक- आपने हमेशा इस बीमारी के बारे में तो सबसे सुना होगा पेट में गैस का बनना,या फिर खाने का ना पचना .इस तरह से हमारे शरीर में  पेट संबंधी कोई भी बीमारी हो तो आप 20 ग्राम एलोवेरा के रस में शहद और नींबू मिलाकर उसका सेवन करें। यह पेट की बीमारी को दूर तो करता ही है साथ ही साथ पाचन शक्ति को भी बढ़ाता है।

पाचन क्रिया में सहायकImage Source: http://upcominghealth.com/

क़ब्जियत की समस्या- यह समस्या हमें हर घर ,हर जगह रोज सुनने को मिलती है ये समस्या किसी भी उम्र के लोगों को हो सकती है इस रोग के दूर करने के लिये एलोवेरा के रस का सेवन करने से बहुत ज्यादा फायदा होता है, छोटे बच्चों के कब्ज़ के लिए जूस व हींग मिलकर नाभि के चारों ओर लगा दे ,इससे लाभ मिलेगा इसके अलावा यकृत मे बड़ रही सूजन में इसके गुदे का सेवन सुबह-शाम करने से यकृत की कार्यक्षमता बढती है वो पीलिया रोग दूर होता है।

क़ब्जियत की समस्याImage Source: http://img.3a2ilati.com/

प्रतिरक्षा प्रणाली- एलोवेरा पौधे के रस में रोगों से लड़ने की क्षमता होती है।क्योंकि इसमें प्रतिरोधक तत्व मौरूद होते है जो हमारें शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढाते हैं।जिससे शरीर में चुस्ती व स्फूर्ति बनी रहती है।

प्रतिरक्षा प्रणालीImage Source: http://imbbpullzone.laedukreationpvt.netdna-cdn.com/

ह्रदय रोग और मोटापा- आज की सबसे जटिल समस्या हमारे शरीर में बढ़ता मोटापा जो ह्रदय रोग होने का मुख्य कारण होता है।मोटापा से शरीर में तेजी से कोलेस्ट्रोल  बढ़ता है जिससे  रक्तवाहिनियों में वसा का जमाव होता है | ऐसी स्थिति में एलोवेरा का रस बेहद फायदेमंद होता है |  एलोवेरा जूस रोजाना 20ml-30ml की मात्रा मेँ पीने से शरीर मेँ अन्दर से भरपूर तन्दुरूस्ती तथा ताजगी का अहसास होता है तथा ऊर्जा का उच्च स्तर बना रहता है और वजन शरीर के अनुकूल रहता है।

ह्रदय रोग और मोटापाImage Source: http://www.fashiontohealth.com/

जोड़ो में दर्द-  सब रोगों की एक दवा है एलोवेरा….जोड़ो में दर्द,मोच या सूजन में एलोवेरा से काफी राहत मिलेगी।जोड़ो के दर्द में एलोवेरा जूस का सेवन सुबह-शाम खली पेट करें और प्रभावित जोड़ो पर लगाने से विशेष फायदा होता है।

जोड़ो में दर्दImage Source: http://2.bp.blogspot.com/

ज़ख्म या घाव- शरीर में किसी भी प्रकार का ज़ख्म या घाव हो जाये एलोवेरा के गुद्दे को क्रीम की तरह लगाएं  और  इसके पत्तों का गूदे में जरा-सी पीसी हल्दी मिलाकर पुल्टिस तैयार करें और गांठ,फोड़े पर रखकर पट्टी बांध दे | फोड़ा पक कर स्वतः फुट जायेगा और मवाद निकल जायेगा।

Acne therapyImage Source: http://www.naturallivingideas.com/

एंटी सेप्टिक, एंटी बैक्टीरियल और एंटी फंगल- इसमें कोई शक नही कि एलोवेरा दुनिया का सबसें बढिया एंटिबाइटिक ,एंटीसेप्टिक के गुण वाला होता है जो हमारें शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढाते हैं। इसके अलावा हमारे शरीर को लगभग 21 अमीनोएसिड़ की जरूरत होती है जिनमें से एलोवेरा में 18अमीनो एसिड़ की मात्रा मिलती है।इन गुणों से भरपूर एलोवेरा में सेपोनिन नामक तत्व होता है जो शरीर की अंदरूनी सफाई करता है तथा रोगाणु रहित रखने का गुण रखता है।इसके अलावा और भी कई गुण होते जो खतरनाक बीमारियों से निजात दिलाते है एड्स जैसी बीमारी भी इसके द्वारा दूर हो सकती है।

एंटी सेप्टिक, एंटी बैक्टीरियल औरImage Source: https://stevericheslife.files.wordpress.com/

कोलेस्ट्रॉल का स्तर बनाए रखने- हमारे शरीर में  मोटापा होने से जो शरीर में कोलेस्ट्रॉल तेजी से बढ़ता है इसी कोलेस्ट्राल कम करने में एलोवेरा सबसे महत्वपूर्ण रूप से काम आती है।

कोलेस्ट्रॉल का स्तर बनाए रखनेImage Source: http://www.diyhealthremedy.com/

मधुमेह से लड़ने में- डायबिटीज की समस्या से परेशान हैं तो 10 ग्राम एलोवेरा के रस में 10 ग्राम करेले का रस मिलाकर कुछ दिनों तक सेवन करने से डायबिटीज से मुक्ति मिलती है। 20 ग्राम आंवले के रस में 10 ग्राम एलोवेरा के गूदे को मिलाकर प्रतिदिन सुबह सेवन करें। यह शूगर की बीमारी को दूर करेगा।

मधुमेह से लड़ने मेंImage Source: http://cdn2.stylecraze.com/

कैंसर से लड़ने में- एलोवेरा कैंसर जैसे खतरनाक रोगों से लड़ने की क्षमता रखता है।

कैंसर से लड़ने मेंImage Source: http://www.well-beingsecrets.com/

सर्दी खांसी में- बच्चों में हो रही सर्दी, जुकाम या खांसी पर 5 ग्राम एलोवेरा के ताजे रस में शहद मिलाकर सेवन करें आपको फायदा होगा।  एलोवेरा के गूदे का सेवन रोज करने से शरीर में कैल्शियम की कमी को दूर किया जा सकता है।

सर्दी खांसी मेंImage Source: http://www.rimedi-naturali.com/

एलोवेरा के खूबसूरत लाभ- कांटेदार पत्तियों वाले इस एलोवेरा को छीलकर एंव काटकर पहले उसका रस निकाला जाता है।इस रस की 2-4 चम्मच सुबह खाली पेट लेने से शरीर में शक्ति व चुस्ती-स्फूर्ति बनती है।अपने एंटी बैक्टोरिया और एंटी फंगल गुणों के कारण घाव को जल्दी भरता है।इससे बाल घने काले लंबे और मजबूत होते है।एलोवेरा के रस  का सेवन रोज करने से त्वचा भीतर से खूबसूरत बनती है और बढती उम्र से त्वचा पर होने वाले कुप्रभाव भी कम होते हैं

एलोवेरा के खूबसूरत लाभImage Source: http://2i7kwdob7lx1qne6v2b4pf1s.wpengine.netdna-cdn.com/

फलों के साथ- आंवला और जामुन के साथ एलोवेरा का उपयोग करने से बालों को मजबूती तो मिलती ही है। साथ में ये आंखों को भी ठीक रखता करता है।

फलों के साथImage Source: http://cdn.olwomen.com/

एंटी एजिंग जेल- एलोवेरा एक जेल के रूप में काम करता है।ये हमारे शरीर के कोमल तत्वों को हानि नहीं पहुंचने देता चेहरे में इसके जेल के प्रयोग करने से एलोवेरा ऐसे तत्वों को नष्ट करता है।जिससे बुढ़ापा नजर आये। एलोवेरा हमारे शरीर के अंदर की सफाई कर उनमें नवीन शक्ति तथा स्फूर्ति भरता है। एलोवेरा जैल हर उम्र के लोग इस्तेमाल कर सकते है यह शरीर में जाकर जो भी सिस्टम खराब है वहां काम करता है।और शरीर को जवान बनाता है।

एंटी एजिंग जेलImage Source: http://img.ffashion.vn/

खिंचाव के निशान को कम करता है- चेहरे में पड़ रहे खिचाव के कुछ निशान से हमारे चेहरे में बुढ़ापा नजर आने लगता है त्वचा में झुर्रियां पड़ने लगती है।एलोवेरा के रस का सेवन करने से चेहरा दमकने लगता है झुर्रिया भी दूर होने लगती हैं स्ट्रेच मार्क्स त्वचा से संबंधित अलग-अलग तरह के रोगों को दूर करने में एलोवेरा बेहद लाभकारी है। एलोवेरा के गूदे से मसाज करने पर त्‍वचा टोन होती है।इसमें पाए जाने वाले तत्व स्ट्रेच मार्क्स को दूर करने में कारगर साबित हो सकते हैं। स्ट्रेच मार्क्स पर ताजा इसमें मौजूद एंजाइम खराब हो चुकी त्वचा को हटाकर दूसरी त्वचा को हाइड्रेट करता है।

खिंचाव के निशान को कम करता हैImage Source: http://muscles-mascara.com/

धूप में फायदेमंद- सूर्य कि किरणें हमारे चेहरे की त्वचा पर ज्यादा असर दिखाती है क्योकि हमारी त्वचा काफी नरम और संवेदनशील होती है। एलोवेरा में सूर्य की किरणों से लड़ने के शक्तिशाली चिकित्सक गुण होते है। इसके हर्बल हमारे चेहरे में एक परत के रूप में काम करते है और साथ ही इसके एंटी ऑक्सीडेंट गुण नमी की कमी की भरपाई करने में मदद करते हैं। इसलिए जब भी आप धूप में घर से बाहर जाएं तो एलोवेरा का रस अच्छी तरह से अपने चेहरे पर लगा कर जायें। त्‍वचा के लिए मॉश्चराइजर एलोवेरा के एक्स्ट्रैक्ट मॉइस्चराइजिंग उत्पादों में इस्तेमाल किये जाते है। यह सभी प्रकार की त्वचा के लिये आदर्श माना जाता है।

धूप में फायदेमंदImage Source: http://delhi.bollywoodshaadis.com/

रूसी से छुटकारा दिलाता है- इसका गूदा या जैल को निकालकर मेंहदी के साथ मिलाकर बालों की जड़ों में लगायें।इससे रूसी खत्म होने के साथ बाल काले , घने-लंबे एवं मजबूत होंगे।

रूसी से छुटकारा दिलाता हैImage Source: http://www.keralaayurveda.biz/

खुराक और साइड इफेक्ट्स- ये तो हम जानते है कि गुणों की खदान है एलोवेरा लेकिन जहां फायदे है वहां नुकसान भी देखने को मिलता है। एलोवेरा पौधे से बनी दवाईयों में औषधीय गुण होते हैं ये हम अच्छी तरह से जानते है इसमें कोई शक की बात ही नही है।और ये कई रोगों में बहुत असरदार भी साबित हुई हैं, पर साथ ही इसके सेवन में सावधानी बरतनी चाहिये और आंख मूंद कर एलोवेरा से दवा बनाने वालों के दावों पर विश्‍वास नहीं करना चाहिये। लेटेक्स एलोवेरा… ये ऐलोवेरा की साबूत पत्तियों से बने जूस में पाया जाता है, जिसे ‘एलॉय लेटेक्‍स’ भी कहते हैं। अपने पाचन की क्रिया को सदृढ़ बनाने के लिये  लोग इसे भोजन से पहले पीते हैं, ताकि उनका पाचन मजबूत हो, और कब्ज से दूर रहें। पर आप नही जानते ये उतना ही नुकसानदायक होता है। कहीं आप  उल्टे ही डायरिया और पेट में मरोड़ जैसे रोग के शिकार ना हो जाये।

खुराक और साइड इफेक्ट्सImage Source: http://www.aloefloridaflp.com/

एहतियात !
इस रस की लंबे समय के उपयोग, पोटेशियम जैसे इलेक्ट्रोलाइट्स की हानि का कारण बन सकती है।

एहतियातImage Source: http://www.slim360.com.br/

एलोवेरा की गर्भावस्था या मासिक धर्म के दौरान लेने से बचें।

एलोवेरा की गर्भावस्थाImage Source: http://static.imujer.com/

मधुमेह के रोगी इसे बिना डॉक्टर के परामर्श के बगैर ना लें।

मधुमेह के रोगी इसे बिना डॉक्टर केImage Source: http://baithuocthiennhien.net/

यह बवासीर, जिगर या पित्ताशय से पीड़ित लोगों को इसके उपयोग करने से बचना चाहिये।

यह बवासीर, जिगर याImage Source: http://vz.ua/static/

निष्कर्ष- एलोवेरा बहुत ही प्राचीन औषिधि के नाम से जानी जाती है जो त्वचा-संबंधी रोगों को लिये काफी असरदार रही है।लेकिन कुछ रोग ऐसे होते है।जिसे हम बिना डॉक्टर के परामर्श के नही ले सकते । इन्हीं सब बातों को हम अपने शब्दों से अवगत करा रहे है।

निष्कर्षImage Source: http://cdn2.stylecraze.com/
Share.

About Author

hellois9
Copyright 2015 hindi.khoobsurati.com