_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"hindi.khoobsurati.com","urls":{"Home":"https://hindi.khoobsurati.com","Category":"","Archive":"https://hindi.khoobsurati.com/2018/07/","Post":"https://hindi.khoobsurati.com/make-sweet-sattu-at-home-by-this-method-and-reap-its-various-benefits/","Page":"https://hindi.khoobsurati.com/contact-us/","Attachment":"https://hindi.khoobsurati.com/?attachment_id=52878","Nav_menu_item":"https://hindi.khoobsurati.com/52144/","Custom_css":"https://hindi.khoobsurati.com/smart-mag/","Oembed_cache":"https://hindi.khoobsurati.com/102ebe2e07459f025b95ebe02763198d/","Acf":"https://hindi.khoobsurati.com/?acf=acf_url"}}_ap_ufee

कॉमन वेल्थ में मुक्केबाजों ने भी दिखाया दम, मैरीकॉम और गौरव के नाम रहा गोल्ड

कॉमन वेल्थ गेमस 2018 में भारतीयों का शानदार प्रर्दशन लगातार जारी है। बीते दिनो कुश्ती और शुटिंग में गोल्ड जीतने के बाद अब पुरुष और महिला बाक्सिंग में भारतीयों जीत के झंडे गाढ़ दिए है। महिला वर्ग में भारत की मशहुर मुक्केबाज मैरीकॉम ने शानदार प्रर्दशन किया और गोल्ड पर हक जमाया, वहीं पुरुष वर्ग में गोरव सोलंकी ने भी देश के लिए गोल्ड मेडल जीता।

Boxers showed their stregth at commonwealth games, marykom and Gaurav got gold, CommonWealth Games, Marykom, Gaurav, Boxers, Ajab gazab news, Weird news, Odd newsImage source:

मैरीकॉम 48 किलो श्रेणी में खेल रही थी। उनका फाइनल मुकाबला उत्तरी आयरलैंड की क्रिस्टिना ओ हारा ने हुआ था। जिसमे मैरीकॉम विजेता रही और उन्होंने कोमन वेल्थ गेमस में अपना पहला गोल्ड मेडल जीता।

दूसरी ओर गौरव का आखिरी मुकाबला भी आयरलैंड के ही खिलाड़ी बाक्सर ब्रैंडन इरविन के साथ था। गौरव 52 किलो श्रेणी में खेल रहा था। गौरव ने भी मैच में उंदा प्रर्दशन किया, जिसके चलते मैच का परिणाम गौरव के हक में रहा।

अभी भी है मैरी में दम –

अभी भी है मैरी में दम Image source:

हालांकि कुछ समय पहले तक मैरी के आलोचको का मानना था कि मैरी का बाक्सिंग करियर खत्म हो चुका है इसलिए उन्हें अब सन्यास ले लेना चाहिए। मगर साल 2017 में वेतनाम में हुई एशियन वूमेन चैम्पियनशिप में शानदार खेल का प्रर्दशन करते हुए मैरी ने अपना 5 गोल्ड मैडल जीता। इस जीत से मैरी के आलोचको का मुंह बंद हो गया और उन्होंने यह साबित कर दिया कि उनके अंदर अभी भी वह काबलियत है कि बड़े मंच पर देश को गौरवान्वित कर सके।

हालांकि पिछली बार के रियो ओलंपिक 2016 में मैरी देश का प्रतिनिधित्व नही कर पाई थी, मगर उन्हें उम्मीद है कि वह 2020 के ओलंपिक में देश को मैडल दिलाने की पूरी कोशिश करेंगे।

hellois21

Copyright 2018 hindi.khoobsurati.com