_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"hindi.khoobsurati.com","urls":{"Home":"https://hindi.khoobsurati.com","Category":"","Archive":"https://hindi.khoobsurati.com/2018/10/","Post":"https://hindi.khoobsurati.com/women-empowerment-spreads-in-indian-society-now/","Page":"https://hindi.khoobsurati.com/contact-us/","Attachment":"https://hindi.khoobsurati.com/women-empowerment-spreads-in-indian-society-now/img_%e0%a4%85%e0%a4%a8%e0%a5%8d%e0%a4%a8%e0%a4%be-%e0%a4%b0%e0%a4%be%e0%a4%9c%e0%a4%ae-%e0%a4%ae%e0%a4%b2%e0%a5%8d%e0%a4%b9%e0%a5%8b%e0%a4%a4%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a4%be_2018_10/","Nav_menu_item":"https://hindi.khoobsurati.com/52144/","Custom_css":"https://hindi.khoobsurati.com/smart-mag/","Oembed_cache":"https://hindi.khoobsurati.com/102ebe2e07459f025b95ebe02763198d/","Acf":"https://hindi.khoobsurati.com/?acf=acf_url","Wpcf7_contact_form":"https://hindi.khoobsurati.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=53539"}}_ap_ufee

इन तरीकों से अपने बच्चों को बनाएं प्रकृति के प्रति जिम्मेदार

आपने कई बार टीवी विज्ञापनों में ऐसा कुछ देखा होगा कि बच्चे अपने आसपास की सफाई करने में जुट रहते हैं। दरअसरल इन विज्ञापनों के माध्यम से लोगों में सफाई और प्रकृति के जागरुकता पैदा करने की कोशिश की जाती है। लेकिन क्या आपने वास्तविक जीवन में बच्चों को ऐसा कुछ करते देखा है। शायद नहीं और इसका कारण माता पिता बच्चों की परवरिश के प्रति गैर जिम्मेदार होना है। बच्चों को प्रकति के प्रति जिम्मेदार बनाना माता पिता का फर्ज होता है। ऐसा होना बेहद जरुरी है अन्यथा वह बच्चा प्राकृतिक संसाधनों का सही से उपयोग नहीं कर पायेंगे। इस लेख में हम आपको बता रहें हैं कि आप कैसे अपने बच्चों को पर्यावरण तथा प्राकृतिक संसाधनों के प्रति सचेत कर सकते हैं। आइये जानते हैं इस बारे में।

1- पहले खुद बनें जिम्मेदार

पहले खुद बनें जिम्मेदारImage source:

हम लोग अपने बच्चों को वही सीखा सकते हैं जो हम खुद करते हैं। ऐसे में यदि हम खुद प्रकृति के प्रति जिम्मेदार बनेंगे। तभी हम अपने बच्चों को उनकी जिम्मेदारी का अहसास करा सकते हैं। कुल मिलाकर हमें पहले खुद इसकी जिम्मेदारी उठानी पड़ेगी। हम लोग यह तक भूल चुके हैं कि सांस लेने की हवा और पानी हमें कहां से मिलता है। हम लोग कभी भी धरती के गिरते जल स्तर के बारे में नहीं सोचते हैं। हम लोगों को ऐसी सभी चीजों के बारे में सोचना चाहिए तथा इनके संरक्षण के लिए पहले खुद आगे आना चाहिए।

यह भी पढ़ें – गर्मियों की छुट्टियों में बच्चों को खेलकूद के साथ-साथ ये काम भी सिखाएं

2- बच्चों को खेल से समझाएं

 बच्चों को खेल से समझाएं Image source:

बच्चे अक्सर बाहर जाकर निंजा टर्टल्स या चोर सिपाही जैसे खेल खेलते हैं। उनको आप खेल खेल में सिखाएं। आप उनको अपने इलाके का निंजा टर्टल्स बनाएं। आप उनको कहें कि वे ध्यान रखें की मोहल्ले में कोई कूड़ा करकट तो नहीं फैलाता या कोई पेड़ तो नहीं काट रहा है। आप स्वयं देखेंगे की ऐसा करने के बाद वह इन कार्यों के प्रति कितने अलर्ट रहते हैं। इस प्रकार से वे प्रकृति संरक्षण को भी समझ सकेंगे।

3- छोटे उदहारण से सिखाएं

छोटे उदहारण से सिखाएं Image source:

आप अपने बच्चे को छोटी छोटी उद्धारणों से भी प्रकृति संरक्षण के बारे में समझा सकते हैं। आप यदि घर में रद्दी को संभाल कर रखते हैं। अपने आसपास गंदगी नहीं करते। पेड़ पौधों की देखभाल करते हैं तो आपके बच्चे भी समय आने पर ऐसा ही करेंगे। आखिरकार बच्चे भी हम लोगों से ही सीखते हैं। अतः आप यदि उनके सामने छोटे छोटे उद्धरण पेश करेंगे तभी वे धीरे धीरे इस सब को समझ पाएंगे।

4- बच्चों को करें जागरूक

बच्चों को करें जागरूक Image source:

प्रकृति के संरक्षण के लिए हम लोगों को अपने बच्चों को जागरूक करना बेदह जरुरी है। हम लोगों को उनको प्राकृतिक संसाधनों के बारे में बताना चाहिए। हमें बच्चों को यह समझाना होगा कि हमारे जीवन के लिए हमारे प्राकृतिक संसाधन कितने जरुरी हैं। धीरे धीरे जब आपके बच्चे इन चीजों को समझना शुरू कर देंगे तो आपकी की गई मेहनत भविष्य में एक कल का निर्माण करेगी।